Category: Uncategorized

xvcxfvsxd 0

xvcxfvsxd

इसलिए कोई राष्ट्र आर्थिक, सामाजिक एवं राजनैतिक क्षेत्रों में उत्रति करना चाहता है तो उसे निरक्षरता के उन्मूलन के लिए भरपूर प्रयास करने होगे और यह चेष्टा करनी होगी कि देश के सभी नागरिक...

wsdfsdf 0

wsdfsdf

भविष्य विज्ञान की योजना बनाने के लिये पृष्ठभूमि के लिये योजना बनाने के लिये तथा योजना क्रियान्विति के लिये, जिससे भविष्य भय उत्पन्न न होने पाये । 4. नीति निर्धारण के योग्य बनानाभविष्य विज्ञान...

dfgdfg 0

dfgdfg

जब व्यक्ति को जाति या आर्थिक सम्पत्रता के स्थान पर ऊँचा पद न देकर कर्म के आधार पर सामाजिक सम्मान प्रदान किया जाता है तो सामाजिक व्यवस्था अच्छी तरह से बनी रहती है ।...

rfghbdv 0

rfghbdv

का उपयोग होता है । – शिक्षा मनोविज्ञान की प्रकृति वैज्ञानिक है । 8 शिक्षा मनोविज्ञान की प्रकृतियह एक व्यवृहत मनोविज्ञान है जिसमें मनुष्य की शारीरिक एवं मानसिक शक्तियों एवं व्यवहार का अध्ययन किया...

svsdv 0

svsdv

BAED-02१वानमहाशावर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय, कोटा (राज.)अनुक्रमणिकाशिक्षार्थी अवबोध क्रम.सं. इकाई का नामपृष्ठ संख्या शिक्षा मनोविज्ञान-अर्थ, प्रकृति क्षेत्र एवं उपयोगिता8-23 अभिवृद्धि एवं विकासः अर्थ, विशेषताएँ और प्रभावित करने वाले 24-49 कारकाँ बालक का शारीरिक एवं गामक...

dfbdfb 0

dfbdfb

17. बौद्धिक संपदा अधिकार : यदि भारत को वैश्विक ज्ञान-नेता बनना है तो हमें ज्ञान केसृजन में सबसे आगे रहना होगा । ज्ञान के सृजन को सुविधापूर्ण बनाने के लिये रा.शा.आ. ने पेटेंट कार्यालयों...

sdvcdsvc 0

sdvcdsvc

  मुख्य कार्य शिक्षा प्रणाली के निचले स्तर को सुदृढ़ करना है, जिसमें इस सदी के अन्त तक लगभग एक अरब लोग होंगें । साथ ही यह भी सुनिश्चित करना होगा कि शिक्षा प्रणाली...

avcvasc 0

avcvasc

किया जाना चाहिए विज्ञान का विकास राष्ट्रीय,सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक परम्पराओं के आधार पर हो विज्ञान की शिक्षा में उसके मूलभूत सिद्धान्तों एवं प्रक्रियाओं के विवेकपूर्ण तथासृजनात्मक चिन्तन पर बल दिया जाये । (v) वैज्ञानिक...

dcvasc 0

dcvasc

सुझाव दिये ।। 11. शिक्षकों की स्थिति, सेवा-दशा एवं शिक्षण-प्रशिक्षण के सम्बन्ध में भी आयोग नेमहत्वपूर्ण सिफारिशें की । 12. आयोग ने माध्यमिक शिक्षा की परीक्षा प्रणाली में सुधार हेतु व्यापक सुझाव देकरपरीक्षा प्रणाली...

sdvs v 0

sdvs v

राष्ट्रीय शिक्षा के सामान्य स्वरूप के अनुरूप स्तर पर आधारित होना चाहिए । 2. केन्द्र अथवा राज्य सरकारों को मेरिट के आधार पर चुने हुये छात्रों को उनमें प्रवेश देंतथा प्रति माह छात्रों को...